भगवान विष्णु शालिग्राम शिला

Narayana!! Click here to read some more details regarding shaligram

सालिग्राम को सालाग्रमा,सालाग्रामा,सालीग्रम,शालिग्रामा, और सालाग्राम  भी कहाँ जाता है !

शालिग्राम भगवान विष्णु के प्रतिक माना जाता है! जैसे भगवान शिव को शिवलिङ्ग के रुप मे पुजन किया जाता है ओहिसे हि भगवान सालिग्राम को भगवान विष्णु के रुप मे पुजा किया जाता है !शालिग्राम जी नेपाल के मुक्तिनाथ ,काली गण्डकी नदी के तट पर पाया जाता है ! खासकर शालिग्राम काले रंग के पत्थर मूर्ति के रुप मे हि मिल जाता है लेकिन सफेद,निले और ज्योति वाला शालिग्राम भी मिल जाता है और वो काले कि तर कुछ दुर्लभ भी होता है ! सम्पूर्ण शालिग्राम मे मनोरम भगवान विष्णु के चक्र भी होती है और एदी चक्र पुरे गोल हुवा ओर पुरा भगवान विष्णु के सुदर्शन चक्र से मिला हो तो उसे सुदर्शन चक्र के संज्ञा भी दिया जाता है ! किसी भी चक्र एदी पुरा और थोडा शालिग्राम मे हो तो उसे बहुत अच्छा माना जाता है !
शालिग्राम खासकर सम्पूर्ण हिन्दु वैष्णव भक्तो के घर मे और विष्णु भगवान,कृष्ण भगवान के मन्दिर मे प्राण प्रतिष्ठा सहित दैनिक पुजा किया जाता है !शालिग्राम पुजा के समय येदि किसिने भगवान शालिग्रमा शिला(मूर्ति) को तुलसी के पत्ते चढाय तो भगवान नारायण(बिष्णु) शीघ्र हि ख़ुश होते है !

सालीग्रामा भगवान विष्णु के सम्पूर्ण अवतार मे होता है जैसे येदि सालीग्रामा गोल मे हुवा तो उस सालाग्रामा भगवान विष्णु के नाम गोपाल और कृष्ण शालिग्राम से जाना जाता है ! येदी सालाग्रामा मछली के आकार मे मिला गए तो उसे मत्स्य शालिग्राम कहाँ जाता है! येदि सालाग्रामा कछुवा के आकार मे मिला जाता है तो भगवान विष्णु के कछुवा रुप कुर्म अवतार को जाना जाता है इसलिए ये कुर्म शालिग्राम कछुवा के आकृति से मिल जाता है ! येसे हि शालिग्राम विभिन्न भगवान विष्णु(कृष्ण) के रुप और नाम मे होता है ! कुछ विभिन्न शालिग्राम के नाम नीचे दिया है !

विभिन्न शालिग्राम के नाम प्रकार - भगवान श्रीमन नारायण के नाम

१ – श्री विष्णु शालिग्राम
२ – जनार्धना शालिग्राम
३ – पढ़मनाभा शालिग्राम
४ – प्रजपथी शालिग्राम
५ – चक्रधर शालिग्राम
६ -त्रिविक्रमा शालिग्राम
७ – नारायण शालिग्राम
८ – श्रीधर शालिग्राम
९ – गोविन्द शालिग्राम
१० – मधु सूधना शालिग्राम
११ – नारासिम्हा शालिग्राम
१२ – जलासयिना शालिग्राम
१३ – वराह शालिग्राम
१४ – रघु नन्दन शालिग्रामा
१५ – वामन शालिग्राम
१६ – माधव शालिग्राम
१७ – सन्थन गोपाल शालिग्राम
१२ – हयग्रिवा शालिग्राम
१३ – लक्ष्मी नरसिम्ह शालिग्राम
१४ – लक्ष्मी नारायण शालिग्राम
१५ – रत्न गर्व ज्योति शालिग्राम
१५ – कल्की शालिग्राम
१६ – बुद्ध शालिग्राम
१७ – परशुराम शालिग्राम
१८ – राम शालिग्राम

१९ – कृष्ण शालिग्राम

२० –  विश्वम्भर शालिग्राम

२१ – अस्टबक्र शालिग्राम

२२-अच्युत शालिग्राम
२३ – स्वेत लक्ष्मी शालिग्राम
२४ – मणि प्रभा शालिग्राम
२४ – संकर्षण शालिग्राम
२५ – नवब्युह शालिग्राम
२६ – दश अवतार शालिग्राम
२७ -प्रधुन्न शालिग्राम
२८ – पुरुषोतम शालिग्राम
२९ – अनिरुद्र शालिग्राम
३०-सुदर्शन और सुदर्शना चक्र शालिग्राम
३१-बैकुण्ठ शिला (बैकुण्ठ शालिग्राम)
३२ – केशब शालिग्राम
३३ -दामोदर शालिग्राम

चौबीस प्रकार के दिव्य शालिग्राम के नाम इश प्रकार दिया गया है !

पहले है केशव हमारा भगवान केशव को कोटी कोटी प्रणाम ,दुसरा है मधुसुदन शालिग्राम ,तिसरा है संकर्सन ,चौधा है दामोदर शालिग्राम ,पांचावा है बासुदेव ,छ मे है प्रध्युमा ,सात मे विष्णु ,आठ मे माधव ,नौ मे अनन्त मूर्ति शालिग्राम ,दस मे पुर्षोत्तम शालिग्राम ,ग्यार मे अघोचेज्य शालिग्राम ,बारौवी मे जनार्दन ,तेरह मे गोविन्द सालिग्राम शिला ,चौध मे त्रिविक्रम शालिग्राम,पन्द्र मे श्रीधर शालिग्राम,,स्वरह मे ऋषिकेश ,सत्र मे नर्सिन्घा ,अठार मे विश्व योनी ,उन्डाइश मे वामन,बिस मे नारायण ,एकिश मे पुन्दरिकाछ्य ,बाइस मे उपेन्द्र शालिग्राम ,तेहिश मे श्री हरि शालिग्राम, और चौबिस मे भगवान कृष्ण.

ये चौबिश शालिग्राम के नाम साल के सभी  २४ एकादशी से मिला हुवा है और पुराण शास्त्र मे इशी तरह कहाँ गया है!ये शालिग्राम भगवान विष्णु के २४ एकादशी मे पुजा किया जाता है !येदी मनुष्य ने किसी भी एकादशी मे ये सभी शालिग्राम पुजा किया तो वोह भक्तिवान और धर्मात्मा होता है !येदी किसी ने ये भगवान नारायण के शालिग्राम येदि पढ़लिया और सुन हो तो उसको भगवान श्री हरि कृष्ण का अनुपम प्रेम मिल जाता है !

शालिग्राम पुजा सम्बन्धि जानकारी

१ -शालिग्राम और तुलसी के बरवे को पास राख्ने से भगवान विष्णु के सदैव कृपा होता है !शालिग्राम पुजा मे तुलसी के पत्ता भगवान शालिग्राम को चड़ाने ने धन,बैबव और फल मिल जाता है !
२ – शालिग्राम और भगवान विष्णु मे कुछ फरक नही है इसलिए भगवान शालिग्राम को भगवान विष्णु,कृष्ण,तरह हि पुजा किया जाता है !
३- शालिग्राम हमारे घर मे पुजा घर मे भगवान विष्णु के साथ् राख्न चाहिए! पुजा घर को नित्य साफ करे!
४ – शालिग्राम को तुलसी पत्ते के साथ् पन्चामृत स्नान करने से भगवान विष्णु को असानी से खुसि पर्ने मे कुछ दिग्गत नही होगी ! पन्चामृत को मह,चिनी,दुध,दहि और घी के मिश्रण कहाँ जाता है !पन्चामृत से भगवान विष्णु शालिग्राम को दैनिक स्नान करना चाहिए!
५ – जिस घर मे शालिग्राम शिला के पुजा होता है उस घर मे सदैव माता लक्ष्मी के बास होता है !
६ – शालिग्राम पुजन करनेसे सम्पूर्ण पिछले जन्म और इश जन्म के पाप नास होता है !
७ – शालिग्राम पुजन से मुक्ति और भुक्ति दोनो हि मिल जाता है !
८ – शालिग्राम पुजा करनेसे दुख,दलिद्रता,कस्ट और दुश्मन नास होता है !
९ – भगवान कृष्ण और शालिग्राम मे कुछ फरक नही होता है ! भगवान कृष्ण सम्पूर्ण भगवान के साथ शालिग्राम मे हि पधारते है !
१० – शालिग्राम नेपाल के सिबाये दुसरा जगह नही मिलता है ! इसलिए गण्डकी मुक्तिनाथ के शालिग्राम हि शालिग्राम है !

 

हमारे जानकारी

येदी किसी भी भक्त को शालिग्राम पुजा के लिए किसी भी संख्या मे चाहिए तो हमको इमेल और फोन किजिये! हमारे दोकान मे रुद्राक्ष माला,मोति माला और सम्पूर्ण पुजा सामाग्री मिलता है ! हमारा दोकान नेपाल काठमाडौँ के प्रख्यात मन्दिर पशुपतिनाथ में स्थित है ! येदी कोहि भी लोग नेपाल आने मे असमर्थित हो तो भी हम शालिग्राम शिला किसी भी देश मे कुरिएर और पोस्ट के मार्फत भेजते आरहें है !
हमारे दोकान के जानकारी इश प्रकार है,हमको इमेल करना मत भुलिए !
दोकान के नाम – हिमालय रुद्राक्ष भण्डार
हमारे पता- पशुपतिनाथ मन्दिर,काठमाडौँ,नेपाल
फोन – +९७७ – ९८०३०२१५१९
हमारे वेब पता- www.srishaligram.com

Email/हमारे ईमेल पता- srishaligram@yahoo.com